आज शुरू हो रही है भगवान जगन्नाथ की भव्य रथ यात्रा जिसमे सोने की झाड़ू से होगी सफाई।

7 जुलाई से भगवान श्री जगन्नाथ की रथ यात्रा शुरू होने वाले हैं जिसका समापन 16 जुलाई को होगा.

इस यात्रा में भगवान जगन्नाथ उनके भाई बलराम एवं बहन सुभद्रा को रात में बैठ कर भव्य यात्रा निकाली जाएगी.

जगन्नाथ का रथ नीम की लकड़ी से बनाया जाता है इसमें 16 पहिए होते हैं.

परंपरा के अनुसार राजा सोने की झाड़ू से रथ के मंडप को साफ करते हैं.

इस परंपरा को छर पहनरा कहा जाता है.

जगन्नाथ यात्रा में कुल तीन रथ होते हैं सबसे ऊंचा रथ भगवान से जगन्नाथ का होता है इस रथ का नाम नंदीघोष होता है.

बलराम जी के रथ का नाम तालध्वज होता है और सुभद्रा के रथ का नाम दर्प दलन होता है.