अडानी ग्रुप के कारण LIC को हुआ इतने अरब रु का फायदा जानकर चोक जाओगे आप,LIC ग्राहको की भी होगी चांदी,जाने कैसे।

Whatsapp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

LIC investment Adani Group: भारत की सबसे बड़ी सरकारी बीमा कंपनी भारतीय जीवन निगम यानी LIC के एक निवेश ने उसे भारी मुनाफा कमाने का मौका दिया है। LIC को यह मुनाफा Hindenburg हमले के बावजूद अडानी ग्रुप पर अपना भरोसा बनाए रखने के इनाम के तौर पर मिला है.

LIC investment Adani Group

दरअसल, Hindenburg रिपोर्ट के बाद अडानी के शेयरों में भारी गिरावट देखने को मिली. उस समय देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी भी चर्चा का विषय बन गई थी क्योंकि एलआईसी ने अडानी ग्रुप की अलग-अलग कंपनियों के शेयरों में अच्छा खासा निवेश किया हुआ था.

  • देश-विदेश से जुड़ी खबरे पाने के लिए Google News पर फॉलो करे.

Hindenburg हमले के बाद जैसे ही अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयर गिरने लगे, एलआईसी को भी अपने निवेश पर भारी नुकसान उठाना पड़ा। लेकिन अब पासा पूरी तरह से पलट गया है क्योंकि हिंडनबर्ग बम फट गया है और अडानी ग्रुप के शेयरों में फिर से तेजी आ रही है।

अब जब अडानी ग्रुप के शेयरों में तेजी आएगी तो उनमें किए गए निवेश की वैल्यू में जबरदस्त इजाफा होना तय है। इस बढ़ोतरी से सभी निवेशकों को फायदा होना तय है, लेकिन सबसे ज्यादा फायदा उन निवेशकों को होगा, जिन्होंने इस ग्रुप की कंपनियों में सबसे ज्यादा निवेश किया है। यही वजह है कि पिछले एक साल में अडानी ग्रुप के शेयरों की बदौलत एलआईसी की कमाई में बंपर बढ़ोतरी हुई है।

LIC को Adani Group से 59 फीसदी का फायदा हुआ

अमेरिकी शॉर्ट सेलर हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से अडानी ग्रुप के शेयरों में गिरावट के बाद इनमें जोरदार तेजी आई है. शेयर बाजार के आंकड़ों के मुताबिक, 31 मार्च 2023 को अडानी ग्रुप की सात कंपनियों में एलआईसी का कुल निवेश 38,471 करोड़ रुपये था, जो 31 मार्च 2024 को बढ़कर 61,210 करोड़ रुपये हो गया. इसमें 22,378 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी दर्ज की गई है.

सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनी एलआईसी ने 2023-24 में अडानी समूह की कंपनियों में अपने निवेश के मूल्य पर 59 प्रतिशत का लाभ दर्ज किया है। पिछले साल हिंडनबर्ग रिपोर्ट में अडानी ग्रुप के शेयरों में हेरफेर के आरोपों के बाद बीमा कंपनी को समूह में निवेश करने के अपने फैसले पर भी सवालों का सामना करना पड़ा था। हालांकि, अडानी ग्रुप ने इस रिपोर्ट को पूरी तरह गलत बताया था।

Adani Group में बड़ी कंपनियों ने निवेश किया

अब अगर हम प्रत्येक कंपनी के हिसाब से समझें तो अडानी एंटरप्राइज लिमिटेड में एलआईसी का निवेश 31 मार्च 2023 को 8,495 करोड़ रुपये से बढ़कर एक साल बाद 14,305 करोड़ रुपये हो गया। इस दौरान अडानी पोर्ट्स और SEZ में निवेश 12,450 करोड़ रुपये से बढ़कर 22,776 करोड़ रुपये हो गया.

इसी तरह अडाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड में एलआईसी का निवेश एक साल में दोगुना होकर 3,937 करोड़ रुपये हो गया. राजनीतिक दबाव का सामना करते हुए, एलआईसी ने रणनीतिक रूप से समूह की दो प्रमुख कंपनियों, अदानी पोर्ट्स एंड एसईजेड और अदानी एंटरप्राइजेज में अपना निवेश कम कर दिया था।

इन दोनों कंपनियों के शेयरों में 83 फीसदी और 68.4 फीसदी की तेजी देखी गई है. शेयर बाजार के आंकड़ों के मुताबिक, निवेश कम करने के बावजूद एलआईसी ने 2023-24 में अडानी ग्रुप में किए गए निवेश पर 59 फीसदी का मुनाफा कमाया है.

इस अवधि के दौरान कतर इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी, अबू धाबी स्थित आईएचसी, फ्रांसीसी दिग्गज टोटल एनर्जी और अमेरिका स्थित जीक्यूजी इन्वेस्टमेंट जैसे कई विदेशी निवेशकों ने अडानी समूह की कंपनियों में लगभग 45,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

स्टेडियम में मैच के बीच Kareena Kapoor Khan कर रही थी ये हरकत,वीडियो हुआ इंटरनेट पर तेजी से वायरल।

Leave a Comment