नवरात्रि में सरसों का तेल हुआ आधे भाव मे कीमत जानकर झूम उठोगे आप।

सरसों का तेल: आम जनता के लिए इस समय सुखद परिवर्तन देखा जा रहा है. क्योंकि खबर तो ऐसी सामने आ रही है कि सरसों का तेल, सोयाबीन तेल, तिलहन, कच्चे पाम तेल और पामोलिन एवं बिनोला तेल के दामों में सुधार देखे गए हैं. जिसका पूरा का पूरा श्रेय सरसों की सरकारी खरीद में वृद्धि को ही जाता है. दरअसल सरकारी खरीद में लगातार वृद्धि होने से खाद तेलों और तिलहनों के मार्केट में सकारात्मक बदलाव देखने को मिल रहे हैं. यह न केवल किसानों के लिए काफी अच्छी खबर है बल्कि उपभोक्ताओं के लिए भी एक उम्मीद की किरण है. अगर आगे भी सरकार और बाजार के समन्वय से तेल तिलहन उद्योग में स्थिरता और समृद्धि की आशा की जा सकती है.

  • देश-विदेश से जुड़ी खबरे पाने के लिए Google News पर फॉलो करे.
सरसों का तेल
सरसों का तेल

इन सब की विपरीत मूंगफली तेल और तिलहन के दाम में विशेष परिवर्तन नहीं देखा जा रहा है और वह पूर्व स्तर पर ही बंद होते हुए नजर आए हैं इसकी प्रमुख वजह तो हाई थोक भाव पर खरीदारी को कम होना बताया जा रहा है. वहीं दूसरी और पराया मिलो के सामने भी आर्थिक चुनौतियां बनी हुई है जहां सरसों और मूंगफली की प्राय में चार से पांच रुपए प्रति किलोग्राम का नुकसान होता हुआ नजर आया है. इसकी एक वजह आयातित तेलों की थोक कीमतों में गिरावट बताई जा रही है जिससे बाजार की धारणा प्रभावित होती है और देसी तिलहनों की खपत होना मुश्किल हो जाता है.

खुदरा बाजार के अंदर भी खाद तेल पूरे दम पर बिकते हुए नजर आए हैं जिससे उपभोक्ताओं कीजिए पर भी असर पड़ता है ऐसे में नवरात्रि और शादी के सीजन में इन खाद्य तेलों की मांग अक्सर ही देखी जाती है जिससे कीमतों में और भी ज्यादा वृद्धि हो सकती है वहीं सूत्रों के अनुसार तो सोयाबीन और सूरजमुखी के आयात में वृद्धि की चर्चा भी कुछ समय के लिए बाजार में हलचल बचाई हुई थी हालांकि अब सरकार खरीदारी बढ़ रही है तो ऐसे में किस को भी अपने सरसों की फसल की पूरी कीमत पर बेचने का मौका मिल रहा है.

इस मोबाईल कंपनी का 40,999 रु वाला मोबाईल मिल रहा मात्र 6600 रु में खरीदने वालों की लगी लाइन।

Whatsapp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Leave a Comment